यूपी चुनाव: चेहरों से नहीं सोशल इंजीनियरिंग से मिलती है सफलता

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

चेहरों से ज्यादा सारा खेल सियासी और सामाजिक समीकरणों का रहा है। समीकरण फिट बैठे तो चेहरे हीरो बन गए। समीकरण गड़बड़ाए तो हीरो से जीरो बन गए। चर्चा तो बने, लेकिन चुनौती नहीं बन पाए। जाहिर है शीला दीक्षित हों या संजय सिंह अथवा किसी पार्टी का कोई और नेता, सिर्फ चेहरे के सहारे यूपी के चुनावी समर में सफलता मिलना तय नहीं है। अतीत का घटनाक्रम इसकी बानगी है। भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने यूपी के पार्टी के चेहरों को थका व पिटा मानते हुए 2012 के विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को आगे किया।उन्हें मुख्यमंत्री का उम्मीदवार घोषित तो नहीं किया, लेकिन वे सारे संकेत दे दिए जिनसे यह संदेश चला जाए कि भाजपा सत्ता में आई तो उमा भारती ही मुख्यमंत्री होंगी। उमा यूपी वाली कही जाएं, इसके लिए न सिर्फ उनके लिए लखनऊ में आवास खरीदा गया बल्कि वे यहां से मतदाता भी बनीं।भगवा रणनीतिकारों की कोशिश उमा के जरिए कल्याण सिंह की नाराजगी से बिगड़े सामाजिक समीकरणों को भाजपा के अनुकूल बनाना था लेकिन सरकार बनाना तो दूर, पार्टी 50 विधायकों के आंकड़े तक भी न पहुंच पाई।

यूपी चुनाव: चेहरों से नहीं सोशल इंजीनियरिंग से मिलती है सफलता

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

चेहरों से ज्यादा सारा खेल सियासी और सामाजिक समीकरणों का रहा है। समीकरण फिट बैठे तो चेहरे हीरो बन गए। समीकरण गड़बड़ाए तो हीरो से जीरो बन गए। चर्चा तो बने, लेकिन चुनौती नहीं बन पाए। जाहिर है शीला दीक्षित हों या संजय सिंह अथवा किसी पार्टी का कोई और नेता, सिर्फ चेहरे के सहारे यूपी के चुनावी समर में सफलता मिलना तय नहीं है। अतीत का घटनाक्रम इसकी बानगी है। भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने यूपी के पार्टी के चेहरों को थका व पिटा मानते हुए 2012 के विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को आगे किया।उन्हें मुख्यमंत्री का उम्मीदवार घोषित तो नहीं किया, लेकिन वे सारे संकेत दे दिए जिनसे यह संदेश चला जाए कि भाजपा सत्ता में आई तो उमा भारती ही मुख्यमंत्री होंगी। उमा यूपी वाली कही जाएं, इसके लिए न सिर्फ उनके लिए लखनऊ में आवास खरीदा गया बल्कि वे यहां से मतदाता भी बनीं।भगवा रणनीतिकारों की कोशिश उमा के जरिए कल्याण सिंह की नाराजगी से बिगड़े सामाजिक समीकरणों को भाजपा के अनुकूल बनाना था लेकिन सरकार बनाना तो दूर, पार्टी 50 विधायकों के आंकड़े तक भी न पहुंच पाई।

शिवपाल की सभा में युवक ने खुद पर छिड़का पेट्रोल

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिला स्थित सैदपुर के टाउन नेशनल इंटर कॉलेज में उस समय अफरातफरी मच गई जब कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव की सभा के दौरान भीड़ में बैठे एक युवक ने खुद के शरीर पर पेट्रोल डाल कर आग लगा लिया।आग की लपटें देख कर मौके पर पुलिस कर्मियों ने पहुंच कर आग बुझाई। युवक को उपचार के लिए वाराणसी ले जाया गया। युवक का नाम सत्येंद्र बताया जा रहा है और उसने कोटेदार के खिलाफ अधिकारियों से शिकायत भी की थी। उसके द्वारा की गई शिकायत पर कोटेदार के खिलाफ कार्यवाही तो नहीं की लेकिन सत्येंद्र के खिलाफ ही पुलिस में रिपोर्ट लिखा दी गई।

शिवपाल की सभा में युवक ने खुद पर छिड़का पेट्रोल

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिला स्थित सैदपुर के टाउन नेशनल इंटर कॉलेज में उस समय अफरातफरी मच गई जब कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव की सभा के दौरान भीड़ में बैठे एक युवक ने खुद के शरीर पर पेट्रोल डाल कर आग लगा लिया।आग की लपटें देख कर मौके पर पुलिस कर्मियों ने पहुंच कर आग बुझाई। युवक को उपचार के लिए वाराणसी ले जाया गया। युवक का नाम सत्येंद्र बताया जा रहा है और उसने कोटेदार के खिलाफ अधिकारियों से शिकायत भी की थी। उसके द्वारा की गई शिकायत पर कोटेदार के खिलाफ कार्यवाही तो नहीं की लेकिन सत्येंद्र के खिलाफ ही पुलिस में रिपोर्ट लिखा दी गई।

हिन्दी पत्रिका को कानूनी नोटिस,केजरीवाल की विवादित फोटो छापने पर

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का निहंग की पोशाक में एक हिन्दी पत्रिका में प्रकाशित फोटो पर आपत्ति जताई है।कमेटी अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने पत्रिका के मुख्य संपादक व अन्य को कानूनी नोटिस भेजकर इस मसले पर सात दिन में बिना शर्त माफी मांगने की मांग की है। साथ ही चेतावनी दी है कि यदि ऐसा नहीं किया तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।प्रकाशकों द्वारा पत्रिका के 20 जुलाई 2016 के अंक में बिना केशों के निहंग रूप में दर्शाते हुए कवर पेज पर फोटो छापने के कारण यह विवाद हुआ है। नोटिस में निहंग सिखों के सुनहरे इतिहास का विवरण देते हुए गैर सिख को निहंग दिखाने को सिख धर्म के सिद्धांतों पर चोट बताया गया है।

हिन्दी पत्रिका को कानूनी नोटिस,केजरीवाल की विवादित फोटो छापने पर

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का निहंग की पोशाक में एक हिन्दी पत्रिका में प्रकाशित फोटो पर आपत्ति जताई है।कमेटी अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने पत्रिका के मुख्य संपादक व अन्य को कानूनी नोटिस भेजकर इस मसले पर सात दिन में बिना शर्त माफी मांगने की मांग की है। साथ ही चेतावनी दी है कि यदि ऐसा नहीं किया तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।प्रकाशकों द्वारा पत्रिका के 20 जुलाई 2016 के अंक में बिना केशों के निहंग रूप में दर्शाते हुए कवर पेज पर फोटो छापने के कारण यह विवाद हुआ है। नोटिस में निहंग सिखों के सुनहरे इतिहास का विवरण देते हुए गैर सिख को निहंग दिखाने को सिख धर्म के सिद्धांतों पर चोट बताया गया है।

निर्मल खत्री का इस्तीफा,उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल खत्री ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। भरोसेमंद सूत्रों के मुताबिक खत्री ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया। उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया गया है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। जल्द ही नए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के नाम का एलान हो सकता है। किसी ब्राह्मण नेता को प्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपी जा सकती है। निर्मल खत्री पिछले तीन दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए थे। सूत्रों के अनुसार वह कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने का प्रयास कर रहे थे लेकिन उन्हें समय नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने लिखित में अपना इस्तीफा सोनिया गांधी को भेजा है। सूत्रों की मानें तो कांग्रेस आलाकमान ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है।विधानसभा चुनाव के नजरिए से प्रदेश कांग्रेस में यह बड़ा बदलाव माना जा रहा है। कयास लगाए जा रहे हैं कि पार्टी विधानसभा चुनाव से पहले किसी ब्राह्मण नेता को प्रदेश कांग्रेस की बागडोर सौंप सकती है। हाल ही में नियुक्त प्रदेश कांग्रेस प्रभारी व पार्टी महासचिव गुलाम नबी आजाद ने भी प्रदेश कांग्रेस में बदलाव के संकेत दिए थे।

निर्मल खत्री का इस्तीफा,उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल खत्री ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। भरोसेमंद सूत्रों के मुताबिक खत्री ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया। उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया गया है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। जल्द ही नए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के नाम का एलान हो सकता है। किसी ब्राह्मण नेता को प्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपी जा सकती है। निर्मल खत्री पिछले तीन दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए थे। सूत्रों के अनुसार वह कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने का प्रयास कर रहे थे लेकिन उन्हें समय नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने लिखित में अपना इस्तीफा सोनिया गांधी को भेजा है। सूत्रों की मानें तो कांग्रेस आलाकमान ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है।विधानसभा चुनाव के नजरिए से प्रदेश कांग्रेस में यह बड़ा बदलाव माना जा रहा है। कयास लगाए जा रहे हैं कि पार्टी विधानसभा चुनाव से पहले किसी ब्राह्मण नेता को प्रदेश कांग्रेस की बागडोर सौंप सकती है। हाल ही में नियुक्त प्रदेश कांग्रेस प्रभारी व पार्टी महासचिव गुलाम नबी आजाद ने भी प्रदेश कांग्रेस में बदलाव के संकेत दिए थे।

Advertisement

img
img