पीएम मोदी को ओबामा ने बेशकीमती मूर्तियां लौटाईं

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

अमेरिका के दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारत की 12 प्राचीन मूर्तियां लौटाईं। चोल वंश से संबंधित ये सभी मूर्तियां बेहद दुर्लभ हैं। इसके साथ ही अमेरिका भारत को 200 से ज्यादा चोरी की गई सांस्कृतिक वस्तुओं को लौटाएगा। अपने दौरे के पहले ही दिन ब्लेयर हाउस पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी को राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 7 से 11वीं शताब्दी की वह मूर्तियां तोहफे में लौटाईं जो कि भारत की आस्था, कला और संस्कृति का प्रतीक हैं। इन सभी मूर्तियों को तस्करी करके अमेरिका ले जाया गया था, जिसे बाद में अमेरिकी अधिकारियों ने जब्त कर लिया था। अब ये दुर्लभ मूर्तियां एक बार फिर भारत की धरोहर में शामिल हो गई हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने महान संपदा वापस करने के लिए अमेरिका की सरकार और राष्ट्रपति बराक ओबामा को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, कुछ लोगों के लिए इन कलाकृतियों की कीमत मुद्रा के रूप में हो सकती है लेकिन हमारे लिए यह इससे कहीं ज्यादा है। यह हमारी संस्कृति और विरासत का हिस्सा है”। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर बताया कि कार्यक्रम में अमेरिका की अटॉर्नी जनरल ने कहा कि भारत को 200 से ज्यादा चोरी की गई सांस्कृतिक वस्तुओं को वापस लौटाने की प्रकिया आज से ही शुरू की जाती है। प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी ट्वीट में कहा गया, यह महसूस किया गया है कि जब देशों को पता चलता है कि किसी देश का खजाना या सांस्कृतिक कला से संबंधित वस्तुएं उनके यहां है तो वह उन्हे लौटा देते हैं। जब दोनो देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों की बात आती है तो भेंट में दी गई वस्तुओं का महत्व होता है लेकिन विरासत हमेशा दो देशों को जोड़ने का काम करती है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा,सरकार और कानून दोनों ही सांस्कृतिक कलाकृतियां और वस्तुओं की तस्करी को रोकने के लिए कड़े कदम उठा रही है। कई पर्यटन जब किसी देश में जाते हैं तो वहां की आधुनिक दृश्यों को देखने के बजाय वहां की ऐतिहासिक संस्कृति और जगह देखना पसंद करते हैं। अमेरिका की ओर से लौटाई गई चीजों में धार्मिक मूर्तियां, कांसे और टैराकोटा की कलाकृतियां शामिल हैं। इनमें से कई कलाकृतियां तो 2000 साल पुरानी हैं। इन्हें भारत के सबसे संपन्न धार्मिक स्थलों से लूटा गया था।

पीएम मोदी को ओबामा ने बेशकीमती मूर्तियां लौटाईं

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

अमेरिका के दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारत की 12 प्राचीन मूर्तियां लौटाईं। चोल वंश से संबंधित ये सभी मूर्तियां बेहद दुर्लभ हैं। इसके साथ ही अमेरिका भारत को 200 से ज्यादा चोरी की गई सांस्कृतिक वस्तुओं को लौटाएगा। अपने दौरे के पहले ही दिन ब्लेयर हाउस पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी को राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 7 से 11वीं शताब्दी की वह मूर्तियां तोहफे में लौटाईं जो कि भारत की आस्था, कला और संस्कृति का प्रतीक हैं। इन सभी मूर्तियों को तस्करी करके अमेरिका ले जाया गया था, जिसे बाद में अमेरिकी अधिकारियों ने जब्त कर लिया था। अब ये दुर्लभ मूर्तियां एक बार फिर भारत की धरोहर में शामिल हो गई हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने महान संपदा वापस करने के लिए अमेरिका की सरकार और राष्ट्रपति बराक ओबामा को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, कुछ लोगों के लिए इन कलाकृतियों की कीमत मुद्रा के रूप में हो सकती है लेकिन हमारे लिए यह इससे कहीं ज्यादा है। यह हमारी संस्कृति और विरासत का हिस्सा है”। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर बताया कि कार्यक्रम में अमेरिका की अटॉर्नी जनरल ने कहा कि भारत को 200 से ज्यादा चोरी की गई सांस्कृतिक वस्तुओं को वापस लौटाने की प्रकिया आज से ही शुरू की जाती है। प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी ट्वीट में कहा गया, यह महसूस किया गया है कि जब देशों को पता चलता है कि किसी देश का खजाना या सांस्कृतिक कला से संबंधित वस्तुएं उनके यहां है तो वह उन्हे लौटा देते हैं। जब दोनो देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों की बात आती है तो भेंट में दी गई वस्तुओं का महत्व होता है लेकिन विरासत हमेशा दो देशों को जोड़ने का काम करती है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा,सरकार और कानून दोनों ही सांस्कृतिक कलाकृतियां और वस्तुओं की तस्करी को रोकने के लिए कड़े कदम उठा रही है। कई पर्यटन जब किसी देश में जाते हैं तो वहां की आधुनिक दृश्यों को देखने के बजाय वहां की ऐतिहासिक संस्कृति और जगह देखना पसंद करते हैं। अमेरिका की ओर से लौटाई गई चीजों में धार्मिक मूर्तियां, कांसे और टैराकोटा की कलाकृतियां शामिल हैं। इनमें से कई कलाकृतियां तो 2000 साल पुरानी हैं। इन्हें भारत के सबसे संपन्न धार्मिक स्थलों से लूटा गया था।

खालिदा जिया के खिलाफ 2 और मामलों में चार्जशीट

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) की नेता खालिदा जिया पर पिछले साल ढाका में बंद के दौरान हिंसा भड़काने के दो नए मामले दर्ज किए गए हैं। बीडीन्यूज की रिपोर्ट के अनुसार रविवार को ढाका के मुख्य महानगर दंडाधिकारी की अदालत में दाखिल दो चार्जशीट में खालिदा का नाम हिंसा भड़काने वाले शख्स के रूप में दर्ज है। अदालत से जुड़े पुलिस अधिकारी मिराशउद्दीन ने कहा कि महानगर दंडाधिकारी इमदादुल हक ने खालिदा पर मुकदमा चलाने की अनुमति देने और चार्जशीट पर हस्ताक्षर करने के लिए 31 मई व एक जून का दिन तय किया है। पुलिस ने इनमें से एक चार्जशीट तीन मार्च 2015 को गबतोली बस टर्मिनल के करीब बाईपास पर एक बस को आग लगाने व तोड़फोड़ करने के मामले में दाखिल की है। इस चार्जशीट में बीएनपी के संयुक्त सचिव जनरल अमानुल्लाह अमान व खालिदा के प्रेस सचिव मारुफ कमाल खान सहित 50 लोगों के नाम का जिक्र किया गया है। दूसरी चार्जशीट 10 फरवरी, 2015 को बगानबरी में एक बस में तोड़फोड़ व उसमें आग लगाने के मामले में दाखिल की गई है। प्रधानमंत्री शेख हसीना ने हिंसा पीड़ितों को यह कहते हुए न्याय दिलाने का वादा किया है कि बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी व इसके सहयोगी दल जमात-ए-इस्लामी ने विरोध-प्रदर्शन के नाम पर देश को अस्थिर बनाने के लिए हिंसा की शुरुआत की। उधर, बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी के नेताओं का आरोप है कि खालिदा के खिलाफ मामले दर्ज कराने का मकसद उन्हें राजनीति से दूर रखना है।

खालिदा जिया के खिलाफ 2 और मामलों में चार्जशीट

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) की नेता खालिदा जिया पर पिछले साल ढाका में बंद के दौरान हिंसा भड़काने के दो नए मामले दर्ज किए गए हैं। बीडीन्यूज की रिपोर्ट के अनुसार रविवार को ढाका के मुख्य महानगर दंडाधिकारी की अदालत में दाखिल दो चार्जशीट में खालिदा का नाम हिंसा भड़काने वाले शख्स के रूप में दर्ज है। अदालत से जुड़े पुलिस अधिकारी मिराशउद्दीन ने कहा कि महानगर दंडाधिकारी इमदादुल हक ने खालिदा पर मुकदमा चलाने की अनुमति देने और चार्जशीट पर हस्ताक्षर करने के लिए 31 मई व एक जून का दिन तय किया है। पुलिस ने इनमें से एक चार्जशीट तीन मार्च 2015 को गबतोली बस टर्मिनल के करीब बाईपास पर एक बस को आग लगाने व तोड़फोड़ करने के मामले में दाखिल की है। इस चार्जशीट में बीएनपी के संयुक्त सचिव जनरल अमानुल्लाह अमान व खालिदा के प्रेस सचिव मारुफ कमाल खान सहित 50 लोगों के नाम का जिक्र किया गया है। दूसरी चार्जशीट 10 फरवरी, 2015 को बगानबरी में एक बस में तोड़फोड़ व उसमें आग लगाने के मामले में दाखिल की गई है। प्रधानमंत्री शेख हसीना ने हिंसा पीड़ितों को यह कहते हुए न्याय दिलाने का वादा किया है कि बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी व इसके सहयोगी दल जमात-ए-इस्लामी ने विरोध-प्रदर्शन के नाम पर देश को अस्थिर बनाने के लिए हिंसा की शुरुआत की। उधर, बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी के नेताओं का आरोप है कि खालिदा के खिलाफ मामले दर्ज कराने का मकसद उन्हें राजनीति से दूर रखना है।

बीएसएनएल के सर्वर डाउन होने से उपभोक्ता परेशान

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

भारत संचार निगम लिमिटेड भले ही अपनी बेहतर सेवाओं का ढिढौरा पीट रहा हो लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है।शाम होते ही सर्वर डाउन होते ही इण्टरनेट सेवा ठप्प हो जाती है। इसका सबसे ज्यादा असर इण्टर नेट से जुडे़ काम-काज वाले उपभोक्ताओं पर पड़ता है। भारत संचार निगम लिमिटेड की टेलीकाॅम सेवा सहित इण्टरनेर सेवा लेने वाले उपभोक्ताओ ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। उपभोक्ताओं को सही सेवाए नहीं मिल रही है, इस लिए ऐसे उपभोक्ता प्राइवेट दूरसंचार कम्पनी पर अपना भरोसा जता रहे हैं। वहीं बीएसएनएल अपनी बेहतर सेवाओं का ढिढौरा पीट कर लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने को प्रयास कर रहा है। साथ ही उपभोक्ताओं को तमाम प्लान के माध्यम से जोड़ना चाह रहा है। लेकिन पिछले तीन -चार दिनो से शाम 4 बजते ही सर्वर डाउन होने के कारण इण्टर नेट सेवा पूरी तरह से ठप्प हो जाने उपभोक्ताओं को परेशान होना पड़ रहा है। जब इसका कारण जानने के लिए विभाग में सम्पर्क किया जाता है तो एक ही जवाब मिलता है सर्वर डाउन है। कुछ देर बाद सेवाए सुचारू हो जायेगी।

बीएसएनएल के सर्वर डाउन होने से उपभोक्ता परेशान

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

भारत संचार निगम लिमिटेड भले ही अपनी बेहतर सेवाओं का ढिढौरा पीट रहा हो लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है।शाम होते ही सर्वर डाउन होते ही इण्टरनेट सेवा ठप्प हो जाती है। इसका सबसे ज्यादा असर इण्टर नेट से जुडे़ काम-काज वाले उपभोक्ताओं पर पड़ता है। भारत संचार निगम लिमिटेड की टेलीकाॅम सेवा सहित इण्टरनेर सेवा लेने वाले उपभोक्ताओ ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। उपभोक्ताओं को सही सेवाए नहीं मिल रही है, इस लिए ऐसे उपभोक्ता प्राइवेट दूरसंचार कम्पनी पर अपना भरोसा जता रहे हैं। वहीं बीएसएनएल अपनी बेहतर सेवाओं का ढिढौरा पीट कर लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने को प्रयास कर रहा है। साथ ही उपभोक्ताओं को तमाम प्लान के माध्यम से जोड़ना चाह रहा है। लेकिन पिछले तीन -चार दिनो से शाम 4 बजते ही सर्वर डाउन होने के कारण इण्टर नेट सेवा पूरी तरह से ठप्प हो जाने उपभोक्ताओं को परेशान होना पड़ रहा है। जब इसका कारण जानने के लिए विभाग में सम्पर्क किया जाता है तो एक ही जवाब मिलता है सर्वर डाउन है। कुछ देर बाद सेवाए सुचारू हो जायेगी।

प्रधानमंत्री की मां को काशी की महिलाएं देगी नारी जागरण सम्मान, भेजा आमंत्रण

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मां हीराबेन का सम्मान उनके संसदीय क्षेत्र की महिलाएं नारी जागरण सम्मान देकर करेंगी। नारी जागरण मासिक पत्रिका की ओर से दिये जाने वाले सम्मान के लिए पीएमओ और मां हीरा बेन को पत्र लिखकर आमंत्रण भेजा गया है।मंगलवार को बादशाह बाग कालोनी स्थित एक कोचिंग सेन्टर में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी पत्रिका की सम्पादक और भाजपा नेत्री श्रीमती मीना चैबे, कार्यकारी सम्पादक डा.उत्तम ओझा प्रबन्ध सम्पादक अशोक चैरसिया ने दी। बताया कि यह प्रतिष्ठित सम्मान मां हीराबेन को देने का कारण एक आदर्श मां होना और देश को पीएम के रूप में पुत्र देना है। पीएम मोदी के व्यक्तित्व और चरित्र गढ़ने के लिए उनका योगदान अतुलनीय है। कहा कि जिस तरह धर्म के मार्ग का अनुसरण करते हुए बीर माता जीजा बाई ने शिवाजी का निर्माण किया था। जिन्होने धर्म संस्कृति की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व जीवन बलिदान कर दिया। बताया कि पत्रिका के जननी जन्मभूमि विशेषांक का लोकार्पण करने के लिए उन्हें रजिस्टर्ड डाक से आमंत्रण भेजा जा चुका है। बताया कि उनसे मई के अन्तिम सप्ताह में काशी आने का आग्रह किया गया है। बताया कि पूर्व में नारी जागरण सम्मान प्रख्यात साहित्यकार डा.मनु शर्मा, पदृमविभुषण श्रीमति गिरजा देवी व कलाविद इन्दु चैधरी को दिया जा चुंका है।

प्रधानमंत्री की मां को काशी की महिलाएं देगी नारी जागरण सम्मान, भेजा आमंत्रण

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मां हीराबेन का सम्मान उनके संसदीय क्षेत्र की महिलाएं नारी जागरण सम्मान देकर करेंगी। नारी जागरण मासिक पत्रिका की ओर से दिये जाने वाले सम्मान के लिए पीएमओ और मां हीरा बेन को पत्र लिखकर आमंत्रण भेजा गया है।मंगलवार को बादशाह बाग कालोनी स्थित एक कोचिंग सेन्टर में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी पत्रिका की सम्पादक और भाजपा नेत्री श्रीमती मीना चैबे, कार्यकारी सम्पादक डा.उत्तम ओझा प्रबन्ध सम्पादक अशोक चैरसिया ने दी। बताया कि यह प्रतिष्ठित सम्मान मां हीराबेन को देने का कारण एक आदर्श मां होना और देश को पीएम के रूप में पुत्र देना है। पीएम मोदी के व्यक्तित्व और चरित्र गढ़ने के लिए उनका योगदान अतुलनीय है। कहा कि जिस तरह धर्म के मार्ग का अनुसरण करते हुए बीर माता जीजा बाई ने शिवाजी का निर्माण किया था। जिन्होने धर्म संस्कृति की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व जीवन बलिदान कर दिया। बताया कि पत्रिका के जननी जन्मभूमि विशेषांक का लोकार्पण करने के लिए उन्हें रजिस्टर्ड डाक से आमंत्रण भेजा जा चुका है। बताया कि उनसे मई के अन्तिम सप्ताह में काशी आने का आग्रह किया गया है। बताया कि पूर्व में नारी जागरण सम्मान प्रख्यात साहित्यकार डा.मनु शर्मा, पदृमविभुषण श्रीमति गिरजा देवी व कलाविद इन्दु चैधरी को दिया जा चुंका है।

विदेशों में दाखिला लेने से पहले जांच-परख लें छात्र: विदेश मंत्रालय

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

केंद्र सरकार ने विदेशी विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों में पढ़ाई करने के इच्छुक भारतीय छात्रों को दाखिला लेने से पहले विश्वविद्यालय की मान्यता, रैंकिंग सहित कई अन्य महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी जुटाने को कहा है।छात्रों को आगाह करते हुए विदेश मंत्रालय ने सोमवार को एक एक महत्वूर्ण एडवाइजरी जारी की। इसमें सरकार ने छात्रों से दाखिला लेने से पहले विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों की पृष्ठभूमि, प्रतिष्ठा और रैंकिंग की जाँच करने की सलाह दी है। साथ ही छात्रों से इस संबंध में रिसर्च करने को कहा है कि क्या उनके द्वारा दिया जाने वाला प्रमाण पत्र अथवा डिग्री अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशेष रूप से भारत में मान्यता प्राप्त है या नहीं। विदेश मंत्रालय ने अपनी एडवाइजरी में कहा कि इस कार्य के लिए छात्र भारतीय विश्वविद्यालय संघ (एआईयू) की वेबसाइट का इस्तेमाल कर सकते हैं। सरकार ने सलाह दी कि छात्रों को दाखिला लेते समय नियम एवं शर्तों, पाठ्यक्रम की फीस आदि के बारे में पहले से ही जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए। अगर हो सके तो अंतिम निर्णय लेने और फीस देने से पहले विदेशों में पढ़ रहे भारतीय छात्रों से विचार-विमर्श भी कर लेना बेहतर रहेगा। दअरसल उत्तरी साइप्रस के विश्वविद्यालयों में पढ़ रहे भारतीय छात्रों द्वारा गड़बड़ियों की सूचना मिलने पर विदेश मंत्रालय से यह एडवाइजरी जारी की है। अभी तक उत्तरी साइप्रस के साइप्रस अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (सीआईयू) के खिलाफ कई शिकायतें सरकार को प्राप्त हुई हैं। वहां पढ़ रहे भारतीय छात्रों ने शिकायत की है दाखिला लेने के बाद विश्वविद्यालय ने उनसे अतिरिक्त फीस की मांग की। इसके साथ ही छात्रों ने पाठ्यक्रमों की विश्वसनीयता और विश्वविद्यालय की मान्यता पर भी सवाल उठाया है।

विदेशों में दाखिला लेने से पहले जांच-परख लें छात्र: विदेश मंत्रालय

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

केंद्र सरकार ने विदेशी विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों में पढ़ाई करने के इच्छुक भारतीय छात्रों को दाखिला लेने से पहले विश्वविद्यालय की मान्यता, रैंकिंग सहित कई अन्य महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी जुटाने को कहा है।छात्रों को आगाह करते हुए विदेश मंत्रालय ने सोमवार को एक एक महत्वूर्ण एडवाइजरी जारी की। इसमें सरकार ने छात्रों से दाखिला लेने से पहले विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों की पृष्ठभूमि, प्रतिष्ठा और रैंकिंग की जाँच करने की सलाह दी है। साथ ही छात्रों से इस संबंध में रिसर्च करने को कहा है कि क्या उनके द्वारा दिया जाने वाला प्रमाण पत्र अथवा डिग्री अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशेष रूप से भारत में मान्यता प्राप्त है या नहीं। विदेश मंत्रालय ने अपनी एडवाइजरी में कहा कि इस कार्य के लिए छात्र भारतीय विश्वविद्यालय संघ (एआईयू) की वेबसाइट का इस्तेमाल कर सकते हैं। सरकार ने सलाह दी कि छात्रों को दाखिला लेते समय नियम एवं शर्तों, पाठ्यक्रम की फीस आदि के बारे में पहले से ही जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए। अगर हो सके तो अंतिम निर्णय लेने और फीस देने से पहले विदेशों में पढ़ रहे भारतीय छात्रों से विचार-विमर्श भी कर लेना बेहतर रहेगा। दअरसल उत्तरी साइप्रस के विश्वविद्यालयों में पढ़ रहे भारतीय छात्रों द्वारा गड़बड़ियों की सूचना मिलने पर विदेश मंत्रालय से यह एडवाइजरी जारी की है। अभी तक उत्तरी साइप्रस के साइप्रस अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (सीआईयू) के खिलाफ कई शिकायतें सरकार को प्राप्त हुई हैं। वहां पढ़ रहे भारतीय छात्रों ने शिकायत की है दाखिला लेने के बाद विश्वविद्यालय ने उनसे अतिरिक्त फीस की मांग की। इसके साथ ही छात्रों ने पाठ्यक्रमों की विश्वसनीयता और विश्वविद्यालय की मान्यता पर भी सवाल उठाया है।

हिलेरी होंगी अमेरिका की अगली राष्ट्रपति:बाइडेन

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

अमेरिका के उपराष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि हिलेरी क्लिंटन राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार बनेंगी और अगले साल जनवरी में राष्ट्रपति बराक ओबामा की जगह लेंगी। बाइडेन ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में कहा कि मुझे विश्वास है कि हिलेरी उम्मीदवार बनेंगी और वे अगली राष्ट्रपति होंगी । बाइडेन की टिप्पणी इसलिए महत्व रखती है, क्योंकि राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारी के लिए अभी प्राइमरी अभी चल रहा है। पिछले साल बाइडेन ने कहा था कि वह राष्ट्रपति पद की दौड़ में शामिल नहीं होंगे।वेस्ट वर्जीनिया में जीते सेंडर्स: डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवारी की दौड़ में शामिल बर्नी सेंडर्स ने वेस्ट वर्जीनिया के प्राइमरी में उम्मीदवारी की प्रबल दावेदार मानी जा रही हिलेरी क्लिंटन को पराजित कर दिया। इस बीच, रिपब्लिकन पार्टी के संभावित उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने भी वेस्ट वर्जीनिया तथा नेब्रास्का में जीत दर्ज कर ली है। वेस्ट वर्जीनिया में डेमोक्रेटिक पार्टी के प्राइमरी में आए परिणामों से हिलेरी के लिए असहज स्थिति पैदा हो गई है। हिलेरी को राष्ट्रपति पद के चुनाव में अपनी पार्टी की उम्मीदवारी पाने के लिए अभी 155 डेलीगेट्स की और जरूरत है। फिलहाल उनके पास 2,383 डेलीगेट्स हैं। उन्हें यह आंकड़ा हासिल करने के लिए शेष प्राइमरी चुनावों में 17 प्रतिशत डेलीगेट्स और चाहिए। इधर, सैंडर्स अब भी इस दौड़ में हौसला बनाए रखे हैं। वेे मंगलवार को कैलिफोर्निया में प्रचार करते दिखाई दिए, जहां सात जून को प्राइमरी होना है।

हिलेरी होंगी अमेरिका की अगली राष्ट्रपति:बाइडेन

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

अमेरिका के उपराष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि हिलेरी क्लिंटन राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार बनेंगी और अगले साल जनवरी में राष्ट्रपति बराक ओबामा की जगह लेंगी। बाइडेन ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में कहा कि मुझे विश्वास है कि हिलेरी उम्मीदवार बनेंगी और वे अगली राष्ट्रपति होंगी । बाइडेन की टिप्पणी इसलिए महत्व रखती है, क्योंकि राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारी के लिए अभी प्राइमरी अभी चल रहा है। पिछले साल बाइडेन ने कहा था कि वह राष्ट्रपति पद की दौड़ में शामिल नहीं होंगे।वेस्ट वर्जीनिया में जीते सेंडर्स: डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवारी की दौड़ में शामिल बर्नी सेंडर्स ने वेस्ट वर्जीनिया के प्राइमरी में उम्मीदवारी की प्रबल दावेदार मानी जा रही हिलेरी क्लिंटन को पराजित कर दिया। इस बीच, रिपब्लिकन पार्टी के संभावित उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने भी वेस्ट वर्जीनिया तथा नेब्रास्का में जीत दर्ज कर ली है। वेस्ट वर्जीनिया में डेमोक्रेटिक पार्टी के प्राइमरी में आए परिणामों से हिलेरी के लिए असहज स्थिति पैदा हो गई है। हिलेरी को राष्ट्रपति पद के चुनाव में अपनी पार्टी की उम्मीदवारी पाने के लिए अभी 155 डेलीगेट्स की और जरूरत है। फिलहाल उनके पास 2,383 डेलीगेट्स हैं। उन्हें यह आंकड़ा हासिल करने के लिए शेष प्राइमरी चुनावों में 17 प्रतिशत डेलीगेट्स और चाहिए। इधर, सैंडर्स अब भी इस दौड़ में हौसला बनाए रखे हैं। वेे मंगलवार को कैलिफोर्निया में प्रचार करते दिखाई दिए, जहां सात जून को प्राइमरी होना है।

कन्हैया की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गुरुवार गिरते स्वास्थ्य के चलते अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। कन्हैया पिछले एक सप्ताह से परिसर में भूख हड़ताल पर है।कन्हैया के मित्र उमर खालिद ने बताया कि कन्हैया की स्थिति बेहद खराब है वह अर्धचेतन अवस्था में है। हो सकता है कि उसके आंतरिक अंगों को नुकसान पहुंचा हो। आज सुबह से ही उसे उल्टी हो रही है जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। खालिद ने बताया कि बाकी छात्रों का स्वास्थ्य भी लगातार गिर रहा है और उनका वजन 4 से 6 किलो तक कम हो चुका है। उसने कहा कि आज भूख हड़ताल को आठ दिन हो गये हैं पर फिर भी जेएनयू प्रशासन अपने स्थान पर अडिग है। वहीं जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति एम जगदीश कुमार ने बुधवार को विरोध कर रहे छात्रों को अपनी भूख हड़ताल छोड़कर बातचीत के लिए आगे आने की अपील की थी। कुलपति ने एक नोटिस जारी कर कहा था कि भूख हड़ताल गैरकानूनी गतिविधि है जिसका छात्रों की सेहत और करियर पर बुरा असर पड़ता है। उन्होंने कहा कि छात्रों का आगे आकर संवैधानिक तरीकों का इस्तेमाल करना चाहिए। उल्लेखनीय है कि फरवरी में जेएनयू परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम जिसमें देशद्रोह के नारे लगाये गये थे उसकी आयोजन समिति और अन्य गतिविधियों में इन छात्रों का नाम सामने आया था। कार्यक्रम आतंकी अफजल गुरु और मकबूल बट्ट की फांसी के खिलाफ आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में कथित तौर पर देशविरोधी नारे लगाए गए थे। इन नारों का विडियो भी सामने आया। देशद्रोह मामले में जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय के प्रशासन ने छात्रसंघ अध्यक्षकन्हैया कुमार, उमर खालिद और अन्य को अनुशासन तोड़ने का दोषी मानते हुए कार्रवाई की है जिसके खिलाफ छात्र भूखहड़ताल कर रहे हैं। कन्हैया पर जहाँ 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है वहीं उमर खालिद को एक सेमेस्टर के लिए निष्कासित किया गया है। मुजीब गट्टू को दो सेमेस्टर के लिए निष्कासित किया है और अनिर्बान भट्टाचार्य पर पांच साल तक विश्वविद्यालय के किसी कोर्स में दाखिले पर प्रतिबंध लगाया गया है। साथ ही अनिर्बान को 15 जुलाई तक के लिए निष्कासित भी किया गया है। इनके अलावा पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष आशुतोष कुमार पर 20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। उन्हें एक साल के लिए हॉस्टल से निष्कासित कर दिया गया है। एबीवीपी के सौरव शर्मा पर भी 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

कन्हैया की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गुरुवार गिरते स्वास्थ्य के चलते अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। कन्हैया पिछले एक सप्ताह से परिसर में भूख हड़ताल पर है।कन्हैया के मित्र उमर खालिद ने बताया कि कन्हैया की स्थिति बेहद खराब है वह अर्धचेतन अवस्था में है। हो सकता है कि उसके आंतरिक अंगों को नुकसान पहुंचा हो। आज सुबह से ही उसे उल्टी हो रही है जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। खालिद ने बताया कि बाकी छात्रों का स्वास्थ्य भी लगातार गिर रहा है और उनका वजन 4 से 6 किलो तक कम हो चुका है। उसने कहा कि आज भूख हड़ताल को आठ दिन हो गये हैं पर फिर भी जेएनयू प्रशासन अपने स्थान पर अडिग है। वहीं जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति एम जगदीश कुमार ने बुधवार को विरोध कर रहे छात्रों को अपनी भूख हड़ताल छोड़कर बातचीत के लिए आगे आने की अपील की थी। कुलपति ने एक नोटिस जारी कर कहा था कि भूख हड़ताल गैरकानूनी गतिविधि है जिसका छात्रों की सेहत और करियर पर बुरा असर पड़ता है। उन्होंने कहा कि छात्रों का आगे आकर संवैधानिक तरीकों का इस्तेमाल करना चाहिए। उल्लेखनीय है कि फरवरी में जेएनयू परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम जिसमें देशद्रोह के नारे लगाये गये थे उसकी आयोजन समिति और अन्य गतिविधियों में इन छात्रों का नाम सामने आया था। कार्यक्रम आतंकी अफजल गुरु और मकबूल बट्ट की फांसी के खिलाफ आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में कथित तौर पर देशविरोधी नारे लगाए गए थे। इन नारों का विडियो भी सामने आया। देशद्रोह मामले में जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय के प्रशासन ने छात्रसंघ अध्यक्षकन्हैया कुमार, उमर खालिद और अन्य को अनुशासन तोड़ने का दोषी मानते हुए कार्रवाई की है जिसके खिलाफ छात्र भूखहड़ताल कर रहे हैं। कन्हैया पर जहाँ 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है वहीं उमर खालिद को एक सेमेस्टर के लिए निष्कासित किया गया है। मुजीब गट्टू को दो सेमेस्टर के लिए निष्कासित किया है और अनिर्बान भट्टाचार्य पर पांच साल तक विश्वविद्यालय के किसी कोर्स में दाखिले पर प्रतिबंध लगाया गया है। साथ ही अनिर्बान को 15 जुलाई तक के लिए निष्कासित भी किया गया है। इनके अलावा पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष आशुतोष कुमार पर 20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। उन्हें एक साल के लिए हॉस्टल से निष्कासित कर दिया गया है। एबीवीपी के सौरव शर्मा पर भी 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

रेलवे कमीशनिंग व विकास कार्यों पर जोर देने की आवश्यकता - महाप्रबंधक

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

रेलवे साईडिंग की कमीशनिंग एवं उसके विकास कार्यो पर जोर देने की आवश्यकता है जिससे एक ओर जहां लोडिंग क्षमता बढ़ेगी वही दूसरी ओर इससे रेलवे राजस्व को भी बढ़ाने में सहायता मिलेगी। उक्त विचार उत्तर मध्य रेलवे में आयोजित वरिष्ठ मण्डल परिचालन प्रबंधकों की बैठक में महाप्रबंधक अरूण सक्सेना ने व्यक्त किया।

रेलवे कमीशनिंग व विकास कार्यों पर जोर देने की आवश्यकता - महाप्रबंधक

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

रेलवे साईडिंग की कमीशनिंग एवं उसके विकास कार्यो पर जोर देने की आवश्यकता है जिससे एक ओर जहां लोडिंग क्षमता बढ़ेगी वही दूसरी ओर इससे रेलवे राजस्व को भी बढ़ाने में सहायता मिलेगी। उक्त विचार उत्तर मध्य रेलवे में आयोजित वरिष्ठ मण्डल परिचालन प्रबंधकों की बैठक में महाप्रबंधक अरूण सक्सेना ने व्यक्त किया।

सपा ने शहर में निकाली साइकिल संदेश यात्रा

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

प्रदेश और जनपद के अब तक के विकास और सेवाओं की जानकारी जन-जन तक पंहुचाने के लिये साइकिल संदेश यात्रा का श्रीगणेश आज मथुरा-वृन्दावन विधानसभा में शुरू हो गया। चिलचिलाती धूप के बावजूद लाल टोपी लगाये महिला और पुरूष कार्यकर्ताओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। डाॅ. अग्रवाल, पार्टी जिलाध्यक्ष तुलसीराम शर्मा, उपाध्यक्ष वीरेन्द्र यादव, विधानसभा प्रभारी कन्हैयालाल अग्रवाल, अध्यक्ष मौहम्मद फारूख, महासचिव तनवीर अहमद के साथ कुछ देर साइकिल पर तो पूरी रैली मे खुली गाड़ी पर सवार होकर लोगों का अभिवादन स्वीकार कर रहे थे। साईकिल संदेश यात्रा में ‘अखिलेश-अशोक जिंदाबाद’, ‘अब की बार डाॅ. अशोक अग्रवाल’ के नारे गा रहे थे तथा साइकिलों पर सपा सरकार की उपलब्धियों से जुड़ी पट्टिकायें लटकी थीं। रैली जिस-जिस क्षेत्र से गुजरी उस-उस क्षेत्र में दूर-दूर तक चमकतीं लाल टोपियों ने पूरे शहर को समाजवादी रंग में रंग दिया। साइकिल संदेश यात्रा चांदमारी चैकी, डैम्पीयर नगर, क्वालिटी तिराहा, रंगेश्वर मंदिर, होली गेट चैराहा, छत्ता बाजार, विश्राम बाजार, डोरी बाजार, चैक बाजार, लाल दरवाजा, बैरागपुरा, मसानी, सरस्वती कुण्ड, महाविद्या कालोनी, मण्डी रामदास, भरतपुर गेट, सौंख अडडा होती हुयी चैकी बागबहादुर स्थित कैम्प कार्यालय पर संपन्न हुयी। संदेश यात्रा का मार्ग में स्थान-स्थान पर पुष्प वर्षा व शीतलपेय वितरित कर स्वागत किया गया। साइकिल यात्रा में प्रमुख रूप से रंजन वाला अग्रवाल, मुन्नी देवी यादव, प्रेमलता चैरसिया, अंशुल खण्डेलवाल, भूरा शेख, भगवती चतुर्वेदी, राकेश गौड़, धर्मवीर अग्रवाल, बच्चू सिंह यादव, राजेश कण्डेरे, जाकिर कुरैशी, शैलेन्द्र शर्मा शैलू, शाकिर कुरैशी, बल्लभ भाई कुशवाह, अभिषेक गुप्ता पिंटू, डाॅ. सीएल शर्मा, अरूण दीक्षित, गुरूमुखदास, सभासद प्रदीप यादव, कुंजबिहारी भारद्वाज, रवि यादव, राजेश यादव, नारायण दास यादव, कुसुम मिश्रा, जितेन्द्र सेंगर, छैलबिहारी त्रिपाठी, बंटी अग्रवाल, नीटू शर्मा, चन्द्रमणि अग्रवाल आदि मौजूद थे।

सपा ने शहर में निकाली साइकिल संदेश यात्रा

पब्लिक व्यू ब्युरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

प्रदेश और जनपद के अब तक के विकास और सेवाओं की जानकारी जन-जन तक पंहुचाने के लिये साइकिल संदेश यात्रा का श्रीगणेश आज मथुरा-वृन्दावन विधानसभा में शुरू हो गया। चिलचिलाती धूप के बावजूद लाल टोपी लगाये महिला और पुरूष कार्यकर्ताओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। डाॅ. अग्रवाल, पार्टी जिलाध्यक्ष तुलसीराम शर्मा, उपाध्यक्ष वीरेन्द्र यादव, विधानसभा प्रभारी कन्हैयालाल अग्रवाल, अध्यक्ष मौहम्मद फारूख, महासचिव तनवीर अहमद के साथ कुछ देर साइकिल पर तो पूरी रैली मे खुली गाड़ी पर सवार होकर लोगों का अभिवादन स्वीकार कर रहे थे। साईकिल संदेश यात्रा में ‘अखिलेश-अशोक जिंदाबाद’, ‘अब की बार डाॅ. अशोक अग्रवाल’ के नारे गा रहे थे तथा साइकिलों पर सपा सरकार की उपलब्धियों से जुड़ी पट्टिकायें लटकी थीं। रैली जिस-जिस क्षेत्र से गुजरी उस-उस क्षेत्र में दूर-दूर तक चमकतीं लाल टोपियों ने पूरे शहर को समाजवादी रंग में रंग दिया। साइकिल संदेश यात्रा चांदमारी चैकी, डैम्पीयर नगर, क्वालिटी तिराहा, रंगेश्वर मंदिर, होली गेट चैराहा, छत्ता बाजार, विश्राम बाजार, डोरी बाजार, चैक बाजार, लाल दरवाजा, बैरागपुरा, मसानी, सरस्वती कुण्ड, महाविद्या कालोनी, मण्डी रामदास, भरतपुर गेट, सौंख अडडा होती हुयी चैकी बागबहादुर स्थित कैम्प कार्यालय पर संपन्न हुयी। संदेश यात्रा का मार्ग में स्थान-स्थान पर पुष्प वर्षा व शीतलपेय वितरित कर स्वागत किया गया। साइकिल यात्रा में प्रमुख रूप से रंजन वाला अग्रवाल, मुन्नी देवी यादव, प्रेमलता चैरसिया, अंशुल खण्डेलवाल, भूरा शेख, भगवती चतुर्वेदी, राकेश गौड़, धर्मवीर अग्रवाल, बच्चू सिंह यादव, राजेश कण्डेरे, जाकिर कुरैशी, शैलेन्द्र शर्मा शैलू, शाकिर कुरैशी, बल्लभ भाई कुशवाह, अभिषेक गुप्ता पिंटू, डाॅ. सीएल शर्मा, अरूण दीक्षित, गुरूमुखदास, सभासद प्रदीप यादव, कुंजबिहारी भारद्वाज, रवि यादव, राजेश यादव, नारायण दास यादव, कुसुम मिश्रा, जितेन्द्र सेंगर, छैलबिहारी त्रिपाठी, बंटी अग्रवाल, नीटू शर्मा, चन्द्रमणि अग्रवाल आदि मौजूद थे।

Advertisement

img
img