कंक्रीट का जंगल लील रहा चंपानगरी की खूबसूरती

पब्लिक व्यू, ब्यूरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

चंद और कत्यूरी राजवंशों की राजधानी रही चंपानगरी में यूं तो कुदरत ने जमकर प्राकृतिक सौंदर्य लुटाया है, मगर कुदरती रूप से बेहद खूबसूरत चंपावत और आसपास के इलाकों में तेजी से फैलता कंक्रीट का जंगल ऐतिहासिक नगरी की खूबसूरती को लीलने लगा है। जिला मुख्यालय एवं आसपास के इलाकों में सीमेंट के बढ़ते प्रचलन और अनियोजित भवन निर्माण ने यहां प्राकृतिक सौंदर्य के स्थान पर कंक्रीट का एक बेतरतीब जंगल जैसा खड़ा कर दिया है, जिसे लेकर पर्यावरणविद और बुद्धिजीवी वर्ग खासा चिंतित है।

कंक्रीट का जंगल लील रहा चंपानगरी की खूबसूरती

पब्लिक व्यू, ब्यूरो 1/1/1900 12:00:00 AM
img

चंद और कत्यूरी राजवंशों की राजधानी रही चंपानगरी में यूं तो कुदरत ने जमकर प्राकृतिक सौंदर्य लुटाया है, मगर कुदरती रूप से बेहद खूबसूरत चंपावत और आसपास के इलाकों में तेजी से फैलता कंक्रीट का जंगल ऐतिहासिक नगरी की खूबसूरती को लीलने लगा है। जिला मुख्यालय एवं आसपास के इलाकों में सीमेंट के बढ़ते प्रचलन और अनियोजित भवन निर्माण ने यहां प्राकृतिक सौंदर्य के स्थान पर कंक्रीट का एक बेतरतीब जंगल जैसा खड़ा कर दिया है, जिसे लेकर पर्यावरणविद और बुद्धिजीवी वर्ग खासा चिंतित है।

Advertisement

img
img